हस्ताक्षर : मासिक साहित्यिक वेब पत्रिका

मई 2020
अंक - 60 | कुल अंक - 60
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

कब लौटेंगे बीते हुए दिन!
ऐसा बहुत ही कम बार होता है कि किसी को हौसला देते समय अपना ही विश्वास डगमगा रहा हो. किसी को ख़ुश रहने की दुआ देते समय अपनी ही आवाज भर्रा रही हो. दिल करता है कि उसे गले लगाकर कहें, घबराओ मत, ये समय भी बीत जाएगा, सब अच्छा होगा पर भीतर ही भीतर कहीं कुछ टूट रहा होता है. हँसो भी तो लगता है जैसे पाप किया हो कोई! इस महामारी ने हमें एक ऐसे ही मंज़र पर लाकर खड़ा कर दिया है. आँखें मूँदकर सोचती हूँ कि कोरोना वायरस के हमारी दुनिया में प्रवेश करने से पहले कैसा था हमारा जीवन? तो पुराना ज्यादा कुछ याद नहीं आता!  लगता है टीवी, रेडियो की आवाज़ें और अखबार में छपी ख़बरें दिमाग में ठूँस-ठूँसकर भर दी गई हों जैसे. जो दिखता है उसमें घबराए हुए लोग हैं. कोई डर रहा है कि ....

Share
इस अंक में ......

आवरण: राकेश सिंह

हस्ताक्षर
कविता-कानन
ग़ज़ल-गाँव
गीत-गंगा
कथा-कुसुम
विमर्श
छंद-संसार
जो दिल कहे
भाषांतर
मूल्यांकन
धरोहर
ख़बरनामा
हाइकु
उभरते स्वर
ज़रा सोचिए!
रचना समीक्षा
यात्रा वृत्तांत
जयतु संस्कृतम्
फ़िल्म जगत