प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
जून 2019
अंक -50

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

ग़ज़ल-गाँव

ग़ज़ल-

ज़हर घुलने लगा हवाओं में
शोरगुल, चीख़ है फ़िज़ाओं में

पेड़-पौधे से उड़ गये पंछी
कट गये वृक्ष शहरों गावों में

धूप का क़ह्र है परिंदों पर
आदमी ठहरे किस की छावों में

शाहराहों पे गाड़ियों का धुआँ
हॉर्न बेवजह सब दिशाओं में

धूप, पानी, हवा मुहाल हुए
सभ्यता की नयी कथाओं में

आई सी यू में गिरवी हैं साँसें
नक़ली फल, दूध और दवाओं में

लक्ष्य अवसाद के हैं व्यापारी
नौकरी है कँवल बलाओं में


- रमेश कँवल
 
रचनाकार परिचय
रमेश कँवल

पत्रिका में आपका योगदान . . .
ग़ज़ल-गाँव (1)