प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
अप्रैल 2019
अंक -49

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

जयतु संस्कृतम्
नवसंवत्सरः
 
पुण्योऽयं नवप्रभातः|
नवसंवत्सर आयातः||१||
नवरात्रदिनानां  महिमा, 
सज्जिताःभवानीप्रतिमाः, 
विपदःकुरु दूरं मातः!||२||
भक्तास्तव भजने लग्नाः, 
सर्वे ध्याने  हि  निमग्नाः, 
चरणयोश्च ते प्रणिपातः||३||
त्वं  मातः! प्रेमपयस्या, 
कुरुषे सफला हि तपस्याः, 
दुष्टेषु  भवत्याघातः||४||
दुःखं न भयं तव चरणे, 
गृह्णासि निर्बलं  शरणे, 
स्यामहमपि कृपया स्नातः||५||
कुरु करुणां भारतवर्षे, 
शक्तिञ्च  देहि  संघर्षे, 
वर्षतु  तव  दया-प्रपातः ||६||

- प्रेमशंकर शर्मा
 
रचनाकार परिचय
प्रेमशंकर शर्मा

पत्रिका में आपका योगदान . . .
जयतु संस्कृतम् (4)